श्रद्धांजलि(शहीदों और उनके परिवार को समर्पित)

image

आज कलम भी रोकर,
मुझसे बोल पड़ी ,
स्याही की जगह आँसुओं
से भर दो मुझे,
नमन करना चाहती हूँ,
मै भी शहादत को,
आज कलम भी रोकर,
मुझसे बोल पड़ी,
जंग तो मैने नही देखी,
पर जो शहीद हुए,
उन्हें श्रद्धांजलि देना
चाहती हूँ,
आज कलम भी रोकर,
मुझसे बोल पड़ी,
लिखना चाहती हूँ उन,
आँखों के आँसुओं को,
जो जागेगी अब उम्र भर,
कभी बेटों की यादों मे,
कभी भाई की यादों मे,
कभी पति की यादों मे,
आज कलम भी रोकर,
मुझसे बोल पड़ी,
बयाँ करना चाहती हूँ,
मंजर-ए-जंग को,
मंजर-ए-नफरत को,
बिछड़ती इंसानियत को,
उन उजड़े हुए गाँव को,
खून से लथपथ,
खेत और गलियों को,
आज कलम भी रोकर,
मुझसे बोल पड़ी,
महसूस कर सकती हूँ,
अनाथ-मासूम बच्चों के,
के आँसुओं को,
सरहद पर हुई जंग को,
आज कलम भी रोकर,
मुझसे बोल पड़ी।
स्याही की जगह,
आँसुओं से भर दो मुझे।
बयाँ करना चाहती हूँ,
बहते लहू को देख,
पथराई धरती माँ को,
कलम है मेरी आज,
आँसुओं से लिखती
हुई।

Advertisements

5 thoughts on “श्रद्धांजलि(शहीदों और उनके परिवार को समर्पित)

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s