तमन्ना

image

तमन्ना न रख,
बनने कि जहाँ जैसा,
काबिल हो तुम,
जहाँ को बनाती जा,
तुम अविरल प्रवाह,
मौजों सी बहती जा,
जड़ो सी मजबूत,
मिटा न पाये तूफाँ,
बस जमी से जुड़ती जा,
संस्कार,ज्ञान से भरपूर,
नव पीढ़ी को अपने सा,
बनाती जा,
अतुलनीय बनती जा,
सहारे पर मत टिक,
कोमल शाख के जैसे,
स्वयं सबल होती जा,
प्रकृति ने सर्वोच्च बनाया,
आगे बढ़ती जा,
सपनों को सुनहरी धूप सा,
बिखेरती जा।
बस सृष्टि मे सृजन करती जा।

Advertisements

4 विचार “तमन्ना&rdquo पर;

टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है।